कुशीनगर यात्रा: जहाँ गौतम बुद्ध ने परिनिर्वाण प्राप्त किया

मुझे कुछ कबूल करना है। शायद आप भी इससे जुड़ाव महसूस करेंगे।

गौतम बुद्ध की शिक्षाओं और उपदेशों ने मुझे अत्यधिक प्रभावित किया है। इतना कि मैं कुछ दिनों के लिए एक साधु की तरह रहने लगा। और फिर मैं हर तरह इसमें लीन होने लगा। मैं उनके बारे में, उनके उपदेशों, बातों, और निश्चित रूप से, उनसे संबंधित कहानियों का अध्ययन करने लगा।

और मेरी यह खोज मुझे कुशीनगर ले गई।

इस यात्रा गाइड में, हम आपको प्राचीन शहर कुशीनगर ले जाएंगे, आपको वहां घूमने की जगहों के बारे में बताएंगे। साथ ही यह भीं बताएँगे कि आप किन स्थानीय व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं, किन स्मृति चिन्ह को घर ले जाना सकते हैं, और वह सभी बातें जो आपको यहाँ आने से पहले ध्यान देना चाहिए।

आपके जीवन पर गौतम बुद्ध का प्रभाव है या नहीं, आपको कुशीनगर की खोज करना बहुत अच्छा लगेगा। यह भारत का एक प्राचीन शहर जहाँ बुद्ध की मृत्यु अपना अंतिम उपदेश देने के बाद हुई थी।


विषय सूची
  1. कुशीनगर में घूमने की 8 जगहें
  2. कुशीनगर में चखने वाले स्थानीय व्यंजन
  3. कुशीनगर में क्या करें?
  4. क्या स्मृति चिन्ह खरीदें?
  5. पब्लिक टॉयलेट और स्वच्छता
  6. यात्रा के साधन और आकर्षणों के बीच दूरी
  7. कुशीनगर कैसे पहुंचें?
  8. कुशीनगर घूमने का सही समय
  9. दिनो की संख्या और बजट
  10. कहां रुकें?
  11. कुछ सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न

सूचना: इस पोस्ट में कुछ लिंक हो सकते हैं। जब आप उनके माध्यम से कुछ खरीदते हैं या कोई बुकिंग करते हैं तो हमें वित्तीय सहायता मिलती हैं। वे किसी भी तरह से हमारी राय या यहां प्रस्तुत जानकारी को प्रभावित नहीं करते हैं।

कुशीनगर में घूमने की 8 जगहें

1. परिनिर्वाण मंदिर और स्तूप

एक क्षैतिज बेलनाकार इमारत (निर्वाण मंदिर) में भगवान बुद्ध की प्रतिमा है। इसके लंबवत परिनिर्वाण स्तूप जिसके शीर्ष पर एक गुंबद है, ठीक इसके पीछे है।

स्तूप एक पवित्र तीर्थस्थल है और धार्मिक मान्यताओं में ध्यान लगाने का स्थान है।

यह वह स्थान है जहाँ बुद्ध ने परिनिर्वाण प्राप्त किया (मृत्यु से पहले उनके जीवन में निर्वाण प्राप्त किया) और इसीलिए यह बौद्ध धर्म में एक महत्त्वपूर्ण महत्व रखता है।

सुनहरे रंग में पॉलिश, लाल बलुआ पत्थर के साथ बनाया गया, और एक ईंट के तख़्त पर बुद्ध की यह 6.1 मीटर की लेती हुई अवस्था में प्रतिमा बेहद शांतिपूर्ण और अद्भुत सी प्रतीत होती है। लोग भजन गाते हुए मूर्ति के चारों ओर स्टील की रेलिंग को छूते हुए परिक्रमा करते हैं।

बुद्धा की लेटी हुई प्रतिमा
बुद्धा की लेटी हुई प्रतिमा
परिनिर्वाण मंदिर का दृश्य
परिनिर्वाण मंदिर का दृश्य

मंदिर के बाहरी हिस्से में प्राचीन खुदाई से मिले खंडहर हैं। यह मंदिर परिसर मेडीटेशन पार्क के पास स्थित है, जो बर्मी मंदिर और गोल्डन स्तूप के प्रवेश बिंदुओं में से एक है। मेडिटेशन पार्क हरे-भरे हरियाली और भावपूर्ण वातावरण से भरा है। जैसा कि नाम से पता चलता है कि बहुत से लोग यहाँ ध्यान लगाते हैं।

2. गोल्डन स्तूप

हमने मेडिटेशन पार्क के पिछले दरवाजों से प्रवेश किया। जैसे-जैसे हम आगे बढ़ रहे थे, दाईं ओर एक लंबा सुनहरे रंग का, चमचमाता स्तूप दिखाई दिया।

बर्मी मंदिर
बर्मी मंदिर

यह शंकु के आकार का स्तूप वास्तुशिल्प रूप से बहुत आकर्षक है। स्तूप परिसर के अंदर, स्तूप की चारदीवारी को घेरे हुए भिक्षुओं की कई प्रतिमाएं हैं, जो बहुत ही अंत में खुद बुद्ध की एक सुंदर प्रतिमा का नेतृत्व करते हुए देखे जा सकते हैं। जब अपनी आंखों से गौर से देखते है और समझने कि कोशिश करते हैं तो यह पूरा दृश्य बड़ा ही मनमोहक प्रस्तुति देती है,।

3. रामभर स्तूप और माथा कुँअर श्राइन

निर्वाण मंदिर से अधिक या कम से कम 1.5 किमी की दूरी पर, रामभर स्तूप को व्यापक रूप से मकुटबन्धन चैत्य के रूप में जाना जाता है। यह माना जाता है कि बुद्ध की राख (अस्थियां) यहीं रखी गई है।

कहा जाता है कि प्राचीन मल्ल लोगों ने यहां बुद्ध का अंतिम संस्कार करने से पहले सम्मान और दिव्यता के साथ सभी कर्तव्यों का पालन किया था।

यह प्राचीन ईंटों से बनी संरचना है जिसकी खुदाई 1910 में की गई थी।

रामभर स्तूप
रामभर स्तूप

इसे रामभर इसलिए बोलते हैं क्योंकि यह इसी नाम के एक तालाब के पास स्थित है। यह स्थल शांत, हरा भरा और प्रकृति का एक मिश्रण है। निश्चित रूप से यहाँ कोई भी खुद के साथ अच्छा समय बिता सकता हैं।

निर्वाण मंदिर से लगभग 400 मीटर पहले कोने पर एक छोटा सा दिव्य स्थान है, जिसे माथा कुंवर श्राइन के रूप में जाना जाता है।

यहां बुद्ध की एक नीली पत्थर की मूर्ति विराजमान है जो 1876 की खुदाई में कार्ललेइल द्वारा पाया गया था। खुदाई के दौरान मूर्ति को दो टुकड़ों में तोड़ दिया गया था, लेकिन बाद में इसकी मरम्मत की गई और इस मंदिर में वर्ष 1972 में स्थापित किया गया।

मूर्ति एक बोधि वृक्ष के नीचे ‘भूमिस्पर्श मुद्रा’ में बैठे बुद्ध को दर्शाती है। लोगों का कहना है कि बुद्ध ने अपना अंतिम उपदेश इसी स्थान पर दिया था।

इसी तरह निर्वाण मंदिर परिसर में, खुदाई से निकले प्राचीन खंडहर भी मंदिर के आस-पास के क्षेत्र में सन्निहित हैं।

4. वाट थाई चाल्मराज बौद्ध मंदिर और मठ 

यह जगह कुशीनगर में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। यह एक मंदिर और मठ है, जो रामभर स्तूप से कुछ मीटर पहले स्थित है, और परिनिर्वाण मंदिर से एक किलोमीटर की दूरी पर है।

आप यहाँ सुबह 9 से शाम 4 बजे तक आ सकते हैं।

यह परिसर थाईलैंड के राजा भूमिबोल अदुल्यादेज के सिंहासन के 50वें वर्ष के प्रवेश के उत्सव का प्रतीक है। इसका निर्माण थाई भक्तों के दान से किया गया है जिसकी वजह से इसे ‘वाट थाई कुशीनारा चालरमराज’ कहा जाता है।

सबसे दिलचस्प हिस्सा इसका वास्तुकला है। इस मंदिर और मठ की वास्तुकला एक विदेशी देश की यात्रा करने का एहसास देती है, ठीक से बोलूं तो जापान! हां, यहाँ आप सचमुच टोक्यो में होने जैसा महसूस कर सकते हैं।

यह बौद्ध मंदिर वास्तुशिल्प रूप से सभी इमारतों में सबसे बेहतरीन है।

5. कुशीनगर संग्रहालय

वाट थाई मंदिर से 50 मीटर दूर, कुशीनगर संग्रहालय है जो कुशीनगर और बुद्ध के गहन इतिहास का प्रतीक है। यहाँ पुरावशेष, खुदाई से प्राप्त वस्तुएं, विभिन्न बुद्ध चित्र और साथ ही विभिन्न राजवंशों से वस्तुएं जैसे सिक्के, मूर्तियां आदि हैं, जो बुद्ध के समय में मौजूद थीं।।

2019 तक प्रवेश शुल्क सिर्फ 5 INR (भारतीय, विदेशियों के लिए 500 INR) था, लेकिन यदि आप अंदर फोटोग्राफी करने में रुचि रखते हैं, तो आपको 120 INR अधिक भुगतान करने की आवश्यकता है।

इस संग्रहालय की देख रेख राज्य सरकार द्वारा किया जाता है। यह सोमवार को बंद रहता है। जो लोग पुरातत्व और इतिहास में रुचि रखते है, उन्हें इस जगह का अवलोकन जरूर करना चाहिए।

संग्रहालय के बाहर बुद्ध की मूर्ति के साथ एक छोटा बगीचा है जहां आप रुक सकते हैं और जरूरत पड़ने पर आराम कर सकते हैं।

6. वियतनाम-चीनी बौद्ध मंदिर

जैसा कि नाम में ’चीनी’ शब्द शामिल है, आपने यह अवश्य देखा होगा कि पारंपरिक चीनी वास्तुकला आमतौर पर कैसी होती है। उनमे ड्रेगन एक अच्छे भाग्य को दर्शाते हैं और उन्हें उनकी परंपरा में एक समृद्ध संकेत माना जाता है। इसलिए, मंदिर पर ड्रेगन की संरचनाओं को देखना कोई आश्चर्य नहीं है।

गोल्डन स्तूप के ठीक बगल में और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के कार्यालय के सामने,स्थित यह बौद्ध मंदिर एक और स्थान था जिसने हमें सम्मोहित कर दिया था।

इसकी अद्भुत वास्तुकला, साथ ही साथ चीन में होने का एहसास आपको अच्छा अनुभव कराएगा। यह एक दो मंज़िला इमारत है जिसमें भगवान बुद्ध के विभिन्न चित्र हैं!

7. लघुचित्र 

सबसे अधिक मनोरंजक चीजों में से एक हमने 8 महत्वपूर्ण बौद्ध स्थानों के लघुचित्रों को देखा था। जो वियतनाम-चीनी मंदिर के सबसे मनोरंजक चीज़ों में से एक जो हमने खोजी वह थी वियतनाम-चीनी मंदिर के बगल में 8 महत्वपूर्ण बौद्ध स्थानों के लघुचित्र। यह केवल वियतनाम-चीनी मंदिर के माध्यम से पहुँचा जा सकता था। यह उन स्थलों की एक छोटी नकल है जो बौद्ध धर्म में महत्व रखते हैं।

हमने गेटकीपर से पूछा, जो हमारे आश्चर्य से न्यूयॉर्क से था, और उसने हमें बताया कि कुछ लोग इन महत्वपूर्ण स्थानों पर पूरी तरह से जाने में असमर्थ हैं, इसलिए हमने उनके लिए इसे आसान बनाने के लिए इस जगह को बनाया है।

एलोरा गुफाओं की नकल, बोधगया, सारनाथ, श्रावस्ती, निर्वाण मंदिर, और बहुत कुछ। और ये सभी लघुचित्र एक-दूसरे के ठीक बगल में हैं, जिससे आप इन्हे आसानी से देख सकते है।

बुद्ध के जीवन के प्रत्येक चरण और उससे जुड़े स्थलों को इस क्षेत्र में बचपन से लेकर वयस्कता तक अच्छी तरह से चित्रित किया गया है!

8. सूर्य मंदिर

महापरिनिर्वाण मंदिर से लगभग 25 किमी की दूरी पर तुर्कपत्ति नामक स्थान पर एक सूर्य मंदिर स्थित है। इसे पूर्वांचल का सूर्य मंदिर भी कहा जाता है।

मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर के गर्भगृह में स्थित सूर्यदेव की प्रतिमाएं लगभग 4-5वीं शताब्दी की हैं। इसका भवन भले ही हाल में ही बना हुआ है, पर प्रचलित मान्यताएं काफी प्राचीन हैं।

 इस मंदिर तक कोई पब्लिक ट्रांसपोर्ट नही जाता है, तो अगर आपको जाना है तो कैब या स्वयं के वाहन से जाना होगा। आप सप्ताह के सभी दिनों में सूर्योदय से सूर्यास्त तक मंदिर के दर्शन कर सकते हैं।

कुशीनगर में चखने वाले स्थानीय व्यंजन

तो भगवान बुद्ध से जुड़े इस पवित्र शहर में खाने की क्या चीज़ें हैं जो आपकी अवश्य ही चखना चाहिए?

चूंकि यह जिला उत्तर प्रदेश और बिहार के सीमा पर स्थित है, आपको प्रसिद्ध लिट्टी चोखा का स्वाद हर ढाबों पर मिल जाएगा। पर्यटन स्थान के निकट हाईवे पर कुछ ढाबे अपने स्वाद के लिए जाने जाते हैं। इन ढाबों पर आपको साफ सफाई का विशेष ध्यान देना होगा।

इसके अलावा समोसे, पकोड़े, शुद्ध मिठाइयां, जलेबी, पूड़ी सब्जी के साथ साथ कुछ फास्ट फूड मिल जाएंगे। यहां आप शाकाहारी के साथ मांसाहारी भोजन का भी स्वाद भरपूर ले सकते हैं।

खाने की चीजेंजगहें
समोसा, पकोड़े, जलेबी आदिआसपास की मिठाई की दुकानें
दाल, रोटी, सब्जी, चावल आदिनिकट स्थित ढाबों पर
फास्ट फूड और अन्य जायकायामा कैफ और पथिक निवास

कुशीनगर में क्या करें?

1. प्रार्थना सभाओं और उपदेशों में मूल्यों को जानें

यहां पर नियमित रूप से धार्मिक प्रवचनों का आयोजन किया जाता है। इस कार्यक्रमों में भगवान बुद्ध द्वारा बताए गए उपदेश शिष्यों को बताया जाता है। इसका उद्देश्य गौतम बुद्ध के उपदेशों को जनमानस तक पहुंचने का होता है। तो आप इसमें शामिल हो सकते है। यहां के बौद्ध भिक्षुओं से एक अच्छी बातचीत स्थापित कर सकते हैं।

2. विपासना में करें मन को शांत

अगर आप जीवन में भटक गए और शांति और सत्य की तलाश में है, तो यहां से महज 5 किमी की दूरी पर स्थित विपासना केंद्र में कुछ दिनों के कोर्स में शामिल हो सकते हैं।

3. बुद्ध हेरिटेज वॉक करें

आपको बताते चलें की इस जगह पर सभी पर्यटन स्थल बहुत आसपास हैं, तो एक हेरिटेज वॉक करना आपके अनुभव को और भी बेहतर बना देगा। यह वॉक बस 2 किमी में शामिल है। जगह जगह बैठने हेतु बेंच स्थापित है जो आपके वॉक को सुगम बनाती हैं।

4. मेडिटेशन पार्क में ध्यान लगाएं

मुख्य आकर्षण परिनिर्वाण मंदिर के सामने एक पार्क है, जिसमे आपको लोग ध्यान लगाते नजर आएंगे। आप भी कुछ समय यहां शांति से ध्यान लगा सकते हैं।

क्या स्मृति चिन्ह खरीदें?

कुशीनगर बुद्ध सर्किट का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। इसलिए यहां के आबो हवा में आप बौद्ध धर्म को आध्यात्मिकता को महसूस कर सकते हैं। 

यहां निम्न स्मृति चिन्ह है, जिन्हें आप कुशीनगर में याद के तौर पर खरीद सकते हैं:

  • भगवान बुद्ध की प्रतिमाएं: भगवान बुद्ध को छोटी बड़ी हार आकार की मूर्तियां खरीदी जा सकती हैं।
  • प्रार्थना चक्र: इसको घुमाकर बौद्ध मंत्रों का उच्चारण किया जाता है। इसका उपयोग ध्यान लगाने में भी होता है।
  • तिब्बती प्रार्थना झंडा: इसको सकारात्मक ऊर्जा के प्रभाव के लिए कार, बाइक, और घर के प्रवेश द्वार पर लगाया जाता है।
  • बौद्ध धार्मिक पुस्तकें: तिब्बती संस्कृति, भगवान बुद्ध के उपदेशों और बौद्ध धर्म के इतिहास वाली तमाम पुस्तकें।
  • चीनी बर्तन और ज्वेलरी: रंगीन चीनी बर्तन और सुंदर आभूषणों की खरीददारी भी बखूबी पर्यटकों द्वारा को जाती है।

पब्लिक टॉयलेट और स्वच्छता

यहां पर साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा गया है। पर्यटन स्थलों के निकट आपको कूड़ेदान भी दिख जायेंगे। जगह जगह पब्लिक टॉयलेट की भी उपलब्धता है। हम इसे इस विभाग में पूरे नंबर देंगे।

यात्रा के साधन और आकर्षणों के बीच दूरी

कुशीनगर के सभी बौद्धिक पर्यटन स्थल महज 2 किमी की परिधि में सीमित हैं। आप पैदल चलकर सभी स्थलों पर भ्रमण कर सकते हैं। यदि आपके साथ बुजुर्ग या बच्चे हैं, तो आपको जगह जगह ऑटो और बैटरी वाले रिक्शे मिल जायेंगे जो आपको सभी स्थानों पर छोड़ देंगे।

बस अगर आप सूर्य मंदिर (25 किमी) और विपासना केंद्र (5 किमी) जाने के इच्छुक है, तो आप ऑटो बुक कर के जा सकते हैं। ध्यान रहे कि यहां ओला उबर की सुविधा नहीं है।

कुशीनगर कैसे पहुंचें?

रेल द्वारा

कुशीनगर का निकटतम रेलवे स्टेशन गोरखपुर जंक्शन (55 किमी) है। एक बड़े रेलवे स्टेशन होने के कारण देश के हर कोने से यहां के लिए ट्रेन उपलब्ध है।

रोड द्वारा

कुशीनगर नेशनल हाईवे (NH-28) पर स्थित है। हाईवे से महज 2 किमी पर ही सभी आकर्षण स्थित हैं। गोरखपुर बस अड्डे (50 किमी) से इस जगह के लिए निरंतर बस उपलब्ध हैं। वैसे निकटतम लोकल बस स्टैंड कसिया है। 

हवाई मार्ग द्वारा

अभी हाल में ही कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का सुभारंभ हुआ है। फिलहाल मात्र नई दिल्ली के लिए फ्लाइट उपलब्ध है। आगे आने वाले महीनों में यहां से दक्षिण एशियाई देशों के साथ साथ देश के तमाम बड़े शहरों के एयरपोर्ट के लिए फ्लाइट उपलब्ध होंगी। हम इससे जुड़ी ख़बरें यहां अपडेट करते रहेंगे।

फिलहाल के लिए निकटम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा लखनऊ (340 किमी) है। भारतीय वायु सेना द्वारा स्थापित गोरखपुर एयर बेस (50 किमी) से लखनऊ, दिल्ली आदि शहरों के लिए भी कुछ डोमेस्टिक फ्लाइट संचालित की जाती हैं। 

कुशीनगर घूमने का सही समय

वैसे तो ये सभी पर्यटन स्थलों को साल के किसी भी महीने में घूमा जा सकता है। लेकिन चूंकि गर्मियों के मौसम में यहां का तापमान अधिक रहता है, तो आपको सलाह दी जाती है, सर्दियों के मौसम (अक्टूबर से मार्च) में जाएं। इस समय मौसम अनुकूल रहता है।

दिनो की संख्या और बजट

दिनो की संख्या

अगर आप शहर के सभी पर्यटन स्थलों को गहराई से जानना और समझना चाहते हैं तो आपको कम से कम दो दिन की आवश्यकता होगी। इसमें जगहों को घूमने के अलावा बौद्ध प्रार्थनाओं में शामिल होना और ध्यान लगाना आदि शामिल है।

और यदि आप सिर्फ जगहों को घूमने के इरादे से प्लान बना रहे हैं तो एक दिन में भी आप सभी जगहों का अवलोकन कर सकते हैं।

बजट

सभी के लिए बजट अलग अलग हो सकता है। यह प्रायः इस बात पर निर्भर करता है कि आप कौन सा होटल लेते है, क्या खाते पीते है और क्या खरीददारी करते हैं। फिर भी एक सामान्य बजट निम्नवत है:

  • एक दिन के लिए: ₹2500
  • दो से तीन दिन के लिए: ₹5000

कहां रुकें?

सस्ते होटल और गेस्ट हाउस से लेकर महंगे 3 सितारा होटल तक के विकल्प यहां मौजूद हैं। आप अपनी सुविधा और बजट के अनुसार होटल का चयन कर सकते हैं। सभी आवास मुख्य आकर्षणों के आसपास ही स्थित हैं।

कुछ सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न

लखनऊ से कुशीनगर कैसे पहुँचे?

आप हवाई, सड़क और रेल मार्ग से जा सकते हैं। गोरखपुर का निकटतम रेलवे स्टेशन है, जबकि कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है।

गोरखपुर से कितनी दूरी पर कुशीनगर है?

कुशीनगर, गोरखपुर से लगभग 55 किमी या 34 मील की दूरी पर है।

कुशीनगर किस लिए प्रसिद्ध है?

कुशीनगर वह स्थान है जहाँ भगवान बुद्ध ने निर्वाण प्राप्त किया था और यहाँ उनका अंतिम संस्कार किया गया। यह बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए एक पवित्र स्थान है।

कुशीनगर में क्या देखना चाहिए?

बौद्धों के लिए एक पवित्र स्थान होने के नाते, कई मंदिर और मठ देखने के लिए हैं। रामभर स्तूप, वाट थाई चाल्मराज बौद्ध मंदिर, वियतनाम-चीनी बौद्ध मंदिर, आदि, कुशीनगर में घूमने के लिए कुछ शीर्ष स्थान हैं।


अंतिम शब्द

और यह सब हमारे कुशीनगर अभियान के बारे में था। हमें उम्मीद है कि आपने यात्रा का आनंद लिया है और यदि आपके पास कोई शिकायत या सुझाव है, तो टिप्पणी बॉक्स का उपयोग करें। हमें आपके अनुभव और दृष्टिकोण सुनना अच्छा लगेगा।


एक अपील: कृपया कूड़े को इधर-उधर न फेंके। डस्टबिन का उपयोग करें और यदि आपको डस्टबिन नहीं मिल रहा है, तो कचरे को अपने साथ ले जाएं और जहां कूड़ेदान दिखाई दे, वहां फेंक दें। आपकी छोटी सी पहल भारत और दुनिया को स्वच्छ और हरा-भरा बना सकता है।

Share this information with your friends:
Default image
मिसफिट वांडरर्स

मिसफिट वांडरर्स एक यात्रा पोर्टल है जो आपको किसी स्थान को उसके वास्तविक रूप में यात्रा करने में मदद करता है। मनोरम कहानियां, अजीब तथ्य, छिपे हुए रत्न, अनछुए रास्ते, आकर्षक इतिहास, और बहुत कुछ - यात्रियों द्वारा, यात्रियों के लिए।

Articles: 33

One comment

अपनी टिप्पणी या सुझाव दें