मैसूर पैलेस की एक यादगार यात्रा

क्या आपको पता है कि मैसूर पैलेस कभी लकड़ी से बना महल हुआ करता था?

आगरा स्थित ताजमहल के बाद भारत का सबसे ज्यादा घूमे जाने वाली जगह कर्नाटक राज्य में स्थित मैसूर पैलेस है।

आज आप जो मैसूर पैलेस देखते हैं, वह बहुत पुराना नहीं है; इसको 1897 से 1912 के बीच बनाया गया था।

मैसूर पैलेस शहर का सबसे प्रमुख पर्यटन स्थल है जो साल में लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है। इसको देखने के लिए हर साल लगभग 60 लाख लोग आते हैं। इस महल को अम्बा विलास पैलेस के नाम से भी जाना जाता है।

आज इस लेख में हम मैसूर महल से जुड़े तथ्य, इतिहास, वास्तुकला, कब जाएं और क्या करें आदि बातों को बताएँगे।

सूचना: इस पोस्ट में कुछ लिंक हो सकते हैं। जब आप उनके माध्यम से कुछ खरीदते हैं या कोई बुकिंग करते हैं तो हमें वित्तीय सहायता मिलती हैं। वे किसी भी तरह से हमारी राय या यहां प्रस्तुत जानकारी को प्रभावित नहीं करते हैं।

मैसूर पैलेस का इतिहास

gate-of-mysore-palace
मैसूर पैलेस का प्रवेश द्वार
मैसूर महल
सामने से मैसूर पैलेस

मैसूर पैलेस की यह इमारत वाडियार राजवंश का निवास स्थान हुआ करता था, जिन्होंने 1399 से 1950 तक शासन किया था। एक तरह से यह महल उनका गढ़ माना जाता था।

मूल मैसूर पैलेस को 14 वीं शताब्दी में बनाया गया था। इससे पहले का महल चंदन की लकड़ी से बना था जो एक दुर्घटना में बहुत बुरी तरह प्रभावित हुआ। इससे महल को बहुत नुकसान हुआ।

विद्वानों के अनुसार 1897 में जब राजर्षि कृष्णराज वाडियार चतुर्थ की सबसे बड़ी बहन, राजकुमारी जयलक्ष्मी अमानी का विवाह समारोह हो रहा था, तब लकड़ी वाला यह महल एक दुर्घटना के कारण आग में नष्ट हो गया था।

उस वर्ष खुद मैसूर के युवा सम्राट, महारानी और उनकी मां महारानी वाणी विलास संनिधना ने एक नए महल का निर्माण करने के लिए ब्रिटिश वास्तुकार लॉर्ड हेनरी इरविन को सौंप दिया था।

लॉर्ड इरविन एक ब्रिटिश वास्तुकार थे जिन्होंने दक्षिण भारत में ज्यादातर इमारतों को रूपरेखा दिया था। 1912 में 42 लाख रुपये की लागत से महल का निर्माण पूरा हुआ। इसका विस्तार 1940 में मैसूर साम्राज्य के अंतिम महाराजा जयचामाराजेंद्र वाडियार के शासन में किया गया था।

मैसूर पैलेस की वास्तुकला

टिकटघर से टिकट लेने के बाद आप प्रवेश द्वार पहुंचते हैं जहां कुछ जांच प्रक्रिया होती है। अंदर की और थोड़ी दूर चलने पर आपको बाएं की ओर एक खूबसूरत मंदिर दिखाई देगा। यह मंदिर भी बाकी मंदिरों की तरह ड्रविडियन शैली में बना है।

मैसूर पैलेस परिसर तीन मंजिल का एक महल है, जो भूरे रंग की महीन ग्रेनाइट से बना है। इसके ऊपर गहरे गुलाबी रंग के संगमरमर के पत्थर लगे हैं। इसके साथ ही एक पाँच मंजिला मीनार है जिसकी ऊँचाई 145 फीट है। महल का आकार 245×156 फीट है। गुंबद इंडो-सरसेनिक वास्तुकला को चित्रित करते हैं, जो 19 वीं शताब्दी के अंत में ब्रिटिश भारत में ब्रिटिश वास्तुकारों द्वारा लागू किया गया था। 

dark pink at the top of mysore palace
मैसूर पैलेस के सुंदर गुम्बद

मैसूर पैलेस में भारतीय, इंडो-इस्लामिक, नियो-क्लासिकल और गोथिक शैलियों के तत्व शामिल हैं। परिसर के तीन द्वार महल तक ले जाते हैं – सामने का द्वार (विशेष रूप से पूर्वी द्वार) वीवीआईपी के लिए और अन्यथा दशहरा के दौरान खुलता है; दक्षिण गेट को आम जनता के लिए नामित किया गया है; और पश्चिम द्वार आम तौर पर दशहरा में खुला रहता है।

इनके अलावा ऐसा कहा जाता है कि महल के तहखाने में कई गुप्त सुरंगें हैं, जो कई गोपनीय क्षेत्रों और श्रीरंगपटना शहर जैसे अन्य स्थानों की ओर ले जाती हैं। कई फैंसी मेहराब इमारत के आगे के हिस्से को सुशोभित करते हैं।

hallway-inside-mysore-palace
मैसूर पैलेस का एक हॉल

सौभाग्य, समृद्धि और धन की देवी गजलक्ष्मी की एक मूर्ति, जिसमें हाथी भी हैं, केंद्रीय मेहराब के ऊपर विराजमान हैं। चामुंडी हिल्स के सामने स्थित महल देवी चामुंडी के प्रति मैसूर के महाराजाओं की भक्ति को दर्शाता है। महल के चारों ओर एक बड़ा, सुंदर और सुव्यवस्थित उद्यान है, जो इसकी सुंदरता में चार चांद लगाता है।

मैसूर पैलेस की भव्यता

मैसूर पैलेस के मुख्य हिस्सों में कुल तीन हिस्से हैं-  दरबार हॉल, अंबा विलास, और कल्याण मंडप। इसके अलावा भी कुछ अन्य हिस्से हैं जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

दरबार हॉल

इस जगह से महाराज जनता को संबोधित करते थे। यह डिजाइन में अंबा विलास हॉल के समान है लेकिन यह देखने में बहुत विराट है। यहां से मुख्य द्वार को देखा जा सकता है। महाराजा अपने लोगों से बात करने के लिए इस बालकनी का उपयोग करते थे और साथ ही साथ त्योहार और उत्सव भी इस बालकनी के सामने के क्षेत्र में मनाए जाते थे।

इस हॉल को पूरी तरह से चित्रों द्वारा सजाया गया है जिसमे चित्रित स्तंभों के साथ गुलाबी, पीले और फिरोजी रंग शामिल हैं।

अंबा विलास

यह कमरा दरबार हॉल की तुलना में और भी शानदार है क्योंकि पत्थरों पर सोने की परत का इस्तेमाल किया गया है। कांच की छत जो कि एक उत्कृष्ट कृति है इसको बेहतरीन लुक देती है। चूंकि यह मुख्य आकर्षण है, इसलिए यहां स्थायी रूप से भीड़ होती है। 

lightning-and-chandelier-at-mysore-palace

हाथीदांत से अलंकृत सुंदर नक्काशीदार शीशम का द्वार, शीशे के छत से सजाया गया हॉल, सुनहरे स्तंभ, पुष्प रूपांकनों के साथ मनोरम झूमर, मोज़ेक फर्श इस हिस्से को महल के सबसे सुंदर कमरों में से एक बनाता है।

कल्याण मंडप

कल्याण मंडप, जिसे मैरिज हॉल के नाम से भी जाना जाता है। यह आपको अवाक छोड़ देगा।

यह हॉल आकार में अष्टकोणीय है, इसकी गुंबददार छत और सोने का पानी चढ़े स्तंभों के साथ उल्लेखनीय है। मोर के रूपांकनों के साथ शीशे के छत तक देखना आनंदमय होगा, जो फर्श पर भी प्रतिबिंबित होते हैं।

डॉल्स पवेलियन या गोम्बे थोटी

यह एक अनोखी जगह है जो 19वीं और 20वीं सदी की गुड़ियों का एक उत्कृष्ट संग्रह प्रदर्शित करती है। ये पारंपरिक गुड़िया हैं। इस मंडप में औपचारिक वस्तुओं के साथ-साथ भारतीय और यूरोपीय दोनों तरह की मूर्तियों की एक विस्तृत श्रृंखला है। ऐसी ही एक वस्तु है लकड़ी का हाथी जिसे लगभग 84 किलोग्राम सोने से अलंकृत किया गया है।

पोर्ट्रेट गैलरी

कला प्रेमियों के लिए मैसूर पैलेस में एक और जगह पोर्ट्रेट गैलरी है, जिसमें शाही वाडियार परिवार की विभिन्न पेंटिंग शामिल हैं। कल्याण मंडप के दक्षिणी भाग में स्थित, यह गैलरी शाही परिवार के चित्रों और तस्वीरों की एक श्रृंखला प्रदर्शित करती है जैसे कृष्णराजा वाडियार IV चित्र, जयाचारमाजरा वाडियार की जयपुर की राजकुमारी से शादी की श्वेत-श्याम छवियों के साथ-साथ प्रसिद्ध शाही कलाकार राजा रवि वर्मा की कृतियाँ आदि।

 मैसूर पैलेस घूमने का सही समय

मैसूर पैलेस घूमने का सही समय दशहरा का त्यौहार है क्योंकि यह पर्व यहाँ बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। अगर महीनो की बात की जाये तो अक्टूबर से मार्च तक मौसम घूमने के योग्य होता है। इसके अललवा भी आप किसी भी दिन सुबह 10:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक महल का भ्रमण कर सकते है। प्रवेश शुल्क निम्नवत हैं:-

  • भारतीय और विदेशी वयस्कों के लिए 70 रूपये प्रति व्यक्ति।
  • विदेशी पर्यटकों के लिए प्रति व्यक्ति 200 (ऑडियो किट शामिल)
  • 10 से 18 साल के बच्चो के लिए 30 रूपये।

महल की असली रौनक तब होती है जब महल शाम के दौरान इसको रोशन किया जाता है। कई पर्यटक इस खूबसूरत नज़ारे को देखने के लिए आते हैं। यदि आप रोशन हुए महल की एक झलक देखने में रुचि रखते हैं, तो कृपया निम्नलिखित समय को नोट करके रखें:-

  1. रोशन हुए महल को देखने का समय: सायं 07.00- 7:45 बजे (सिर्फ रविवार, राष्ट्रीय अवकाश और राज्य त्योहारों  पर)।
  2. रोजाना साउंड एंड लाइट शो का समय: सायं 7.00 बजे (वीकेंड के दौरान 8 बजे)।
  3. यह लाइट और साउंड शो 45 मिनट कहता हैसाउंड एंड लाइट शो।
  4. मैसूर पैलेस की लाइटिंग देखने के लिए कोई शुल्क नहीं है।
silhoutte-of-mysore-palace-building
मैसूर पैलेस के अंदर से बहार का नज़ारा

मैसूर पैलेस कैसे पहुंचे?

सड़क मार्ग द्वारा:

मैसूर से बैंगलोर की दूरी 140 किमी है। कर्नाटक और देश के सभी महत्वपूर्ण हिस्सों से KSRTC और प्राइवेट बसें नियमित रूप से संचालत होती हैं।

रेल मार्ग द्वारा:

मैसूर रेलवे स्टेशन, बैंगलोर, चेन्नई और अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। बैंगलोर से मैसूर शहर की दूरी केवल 3 घंटे है।

हवाई मार्ग द्वारा:

मैसूर हवाई अड्डा 10 किमी, और बैंगलोर हवाई अड्डा 140 किमी की दूरी पर स्थित है। KSRTC, बैंगलोर हवाई अड्डे से मैसूर के लिए फ्लाईबस हवाई अड्डा सेवा चलाता है।

मैसूर में कहाँ रुकें?

सस्ते हॉस्टल से लेकर महंगे होटल तक के विकल्प यहां मैसूर में मौजूद हैं। आप अपनी सुविधा और बजट के अनुसार होटल का चयन कर सकते हैं। मैसूर में होटल बुकिंग की जानकारी के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक सकते हैं।

कुछ सामान्यतः पूछे जाने वाले सवाल

मैसूर महल कहाँ स्थित हैं?

मैसूर महल या मैसूर पैलेस कर्नाटक राज्य के मैसूर जिले में स्थित है। इसको अम्बा विलास पैलेस के नाम से भी जाना जाता है।

मैसूर महल क्यों बनाया गया था?

अभी का मैसूर पैलेस सन 1897 से 1912 के मध्य वाडियार राजवंश शासक के लिए बनाया गया था। इसका निर्माण महाराजा कृष्णराजा वाडियार चतुर्थ द्वारा करवाया गया था।

बेंगलुरु से मैसूर कितना किलोमीटर है?

बेंगलुरु से मैसूर की दूरी लगभग 150 किमी है जिसको तय करने में 3 घंटे का समय लग जाता है।

मैसूर पैलेस का दूसरा नाम क्या है?

मैसूर पैलेस का दूसरा नाम अम्बा विलास पैलेस है। यह इमारत वाडियार राजवंश का निवास स्थान हुआ करता था।

कुछ प्रमुख बिंदु

  • महल में प्रवेश से पहले जूते चप्पल काउंटर पर जमा होते है।
  • महल में एक और मुख्य आकर्षण है वह लाइट शो, जो सोमवार से शनिवार तक आमतौर पर शाम 7:00 बजे से होता है।
  • आप अंदर परिसर में कैमरा ले जा सकते है।
  • अगर आप अच्छे से सब घूमना चाहते है, तो कम से कम 3-4 घंटे अवश्य दें।
  • दशहरा के मौके पर महल की अच्छी तरह से सजावट की जाती हैं और भव्य आयोजन किया जाता है।

अंतिम विचार

तो यह थी मैसूर पैलेस की एक छोटी सी यात्रा गाइड। उम्मीद करता हूँ की लेख आपको पसंद आया होगा और अगर मैसूर पैलेस से जुडी आपकी कोई राय, सुझाव या सवाल हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में हमें बताइये। हम आपकी पूरी सहायता करने का प्रयास करेंगे।


एक अपील: कृपया कूड़े को इधर-उधर न फेंके। डस्टबिन का उपयोग करें और यदि आपको डस्टबिन नहीं मिल रहा है, तो कचरे को अपने साथ ले जाएं और जहां कूड़ेदान दिखाई दे, वहां फेंक दें। आपकी छोटी सी पहल भारत और दुनिया को स्वच्छ और हरा-भरा बना सकता है।

Share this information with your friends:
Default image
Abhishek Singh

मैं अभिषेक सिंह नवाबों के शहर लखनऊ से हूं। मैं एक कंटेंट राइटर के साथ-साथ डिजिटल मार्केटर भी हूं | मुझे खाना उतना ही पसंद है जितना मुझे यात्रा करना पसंद है। वर्तमान में, मैं अपने देश, भारत की विविध संस्कृति और विरासत की खोज कर रहा हूं। अपने खाली समय में, मैं नेटफ्लिक्स देखता हूं, किताबें पढ़ता हूं, कविताएं लिखता हूं, और खाना बनाता हूँ। मैं अपने यात्रा ब्लॉग मिसफिट वांडरर्स में अपने अनुभवों और सीखों को साझा करता हूं।

Articles: 36

4 Comments

अपनी टिप्पणी या सुझाव दें