नीम करोली बाबा: भारतीय गुरु जिन्होंने सिलिकॉन वैली के प्रौद्योगिक प्रतिभाओं को आकर्षित किया

क्या होगा अगर मैं आपको बताऊं कि दुनिया की सबसे अच्छी तकनीक और नवाचार केंद्र, यानी कि सिलिकॉन वैली से बहुत से प्रौद्योगिक प्रतिभाएं कई बार भारत  आए; वह भी नीम करोली बाबा नाम के एक भारतीय गुरु से मिलने के लिए? ये लोग आज की सबसे प्रतिष्ठित कंपनियों जैसे Apple, Google और Facebook के संस्थापक सदस्य थे।

यह सुनना आश्चर्यजनक है ना?

कैंची धाम में नीम करौली बाबा का आश्रम

भारत आध्यात्मिक अध्ययन का केंद्र है – दुनिया भर के लोगों ने अक्सर ‘भारत यात्रा’ को जीवन में सबसे अच्छी चीज के रूप में वर्णित किया है। भारत की इसी भूमि से, उत्तराखंड प्रांत के एक मंदिर ने स्टीव जॉब्स, मार्क जुकरबर्ग, डैन कोट्टके, लैरी पेज और हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स जैसे लोगों को आकर्षित किया।

कहा जाता है कि इस मंदिर के संस्थापक व्यक्ति – नीम करोली बाबा, रहस्यवादी ऊर्जा के व्यक्ति थे। कई लोग उन्हें हिंदू भगवान हनुमान का अवतार भी मानते थे।

नीम करौली बाबा लेटे हुए

आत्मज्ञान की अवस्था –

मुझे इस मंदिर के बारे में बिल्कुल पता नहीं था। एक दिन मैंने टीवी पर इस स्थान के बारे में देखा। यह कैची धाम के नाम से प्रसिद्ध है। मुझे ठीक से याद है – एक समाचार रिपोर्टर एक काले और सफेद पोशाक में मंदिर के बाहर खड़ा था और मंदिर के बारे में बोल रहा था। उसने कहा कि स्टीव जॉब्स एक बार नीम करोली बाबा से मिलने गए थे। यह देखकर मैं गहरे विचाररूपी समुन्द्र में खो गया।  क्या? स्टीव जॉब्स?

अब उन लोगों के लिए जो मुझे नहीं जानते – मैं स्टीव को आदर्श मानता हूं। 

इसलिए, मैंने तुरंत अपना खाना खाना रोक दिया। लेकिन तब मेरे चंचल मन ने मुझे सुझाव दिया कि यह उनकी एक और गंदी चाल हो सकती है – उन चीजों का दावा करना, जो वास्तव में सही नहीं हैं या अभी तक सिद्ध नहीं हुई हैं।

लेकिन जब मैंने इसे इंटरनेट पर तलाश किया, तो  विकिपीडिया ने इन बातों पर सच्चाई की मुहर लगा दी। अब मैं इस पर कैसे विश्वास नहीं कर सकता?

नीम करौली बाबा को माननेवाले की सूची

नीम करोली बाबा और उनका जीवनकाल –

भारत के उत्तर प्रदेश के फरुख़ाबाद जिले में जन्मे नीम करोली बाबा ने कैंची (उत्तराखंड में नैनीताल के पास) में मंदिर की स्थापना की। वह महाराज जी और नीब करौली बाबा के नामों से भी प्रसिद्ध है।

अगर आप नीम करोली बाबा की संक्षिप्त जीवनी को सुनना चाहते है तो नीचे दिए गए ऑडीओ को प्ले करे।

यह ऑडीओ Pocket FM द्वारा है, और आप इसके आगे के एपिसोड्ज़ यहाँ सुन सकते है । 

मैंने इंटरनेट पर महाराज जी की प्रशंसा करते हुए कई वीडियो और लेख पाए हैं कि कैसे उन्हें बिना छुए किसी की समस्या का पता चल जाता था। वह विनोदी और गंभीर थे, और अक्सर उन्हें ‘राम’ (हिंदू भगवान, भगवान राम का नाम) नाम का जाप करते हुए पाया जाता था।

मंदिर: कब और कैसे बना

नीम करोली बाबा द्वारा स्थापित कैंची धाम मंदिर ने उन लोगों का साक्षी है जिन्होंने अपने जीवन में अपार सफलता हासिल की है। यह अद्भुत मंदिर भारत के हल्द्वानी रेलवे स्टेशन से केवल 42 किमी दूर है।

स्टीव जॉब्स, 1976 में Apple Inc की स्थापना से पहले 1974 में उस समय यहां आए थे, जब वे पेचिश की समस्या से पीड़ित थे। लेकिन यह जानकर निराश हो गए कि नीम करोली बाबा का पिछले साल सितंबर में निधन हो गया है। वह डेन कोट्टके के साथ कई दिनों तक यहां रहे। वे ‘ द ऑटोबायोग्राफी ऑफ ए योगी ’ नामक उपन्यास में प्रसिद्ध भारतीय ऋषि की कहानी, मंदिर परिसर के आसपास टहलते हुए पढ़ते थे।

कुछ वर्षों के बाद एक सामान्य दिन एक युवा लड़का नीली जींस और गहरे रंग की टी-शर्ट में बाबा का आशीर्वाद लेने के लिए यहां आया। उस समय तीर्थस्थल पर कोई भी नहीं जानता था कि वो कौन है? वह कोई और नहीं बल्कि फेसबुक के संस्थापक मार्क ज़करबर्ग थे। उन्होंने हाल ही में भारत के माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को एक बैठक में इसका खुलासा किया था।

रिपोर्टों से पता चलता है कि ईबे  के संस्थापक जेफरी स्कोल भी नीम करोली बाबा का दौरा कर चुके हैं। मार्क जुकरबर्ग की यात्रा से प्रभावित हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स ने भी इस दिव्य मंदिर में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

ये लोग यहाँ क्यों आए?

मैं अपनी कुर्सी पर बैठकर दीवार को घूरते हुए यहीं सोच रहा था कि इस स्थान पर ऐसा क्या है कि प्रौद्योगिक दुनिया से इतने कामयाब लोग यहां आए? मुझे याद नहीं है कि इस प्रश्न के उत्तर की खोज में मैंने कितने लेख पढ़े हैं। लेखों के द्वारा दिए गए उत्तर मुझे पूरी तरह से संतुष्ट नहीं कर पाए और फिर मैंने खुद यहाँ जाने की योजना बनाई।

अब जब मैं स्वयं इस स्थान पर था तो शायद मुझे मेरे प्रश्नों का जवाब मिल जाए। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जो लेख मैंने उत्तर की खोज में पढ़ा था उनसे खुद को जुड़ा हुआ महसूस कर रहा था।

शायद यह एक सवाल ही था जिसका उत्तर स्टीव जॉब्स स्वयं खोज रहे थे। और शायद इसलिए उन्होंने अपने सवालों के जवाब खोजने के लिए भारत की यात्रा की। मार्क जुकरबर्ग ने खुद खुलासा किया कि उन्हें अपने गुरु स्टीव जॉब्स ने सलाह दी गई थी कि वे खुद को पाना चाहते हैं तो कैंची धाम में नीम करोली बाबा के दर्शन अवश्य करें।

प्रसिद्ध अमेरिकी आध्यात्मिक नेता और लेखक राम दास भी नीम करोली बाबा के बहुत बड़े भक्त थे और उनके प्रति बहुत समर्पित थे। उन्होंने महाराज जी की अनकही कहानियाँ भी गाईं और उनमें से कई उनकी वेबसाइट पर यहाँ उपलब्ध हैं।

मैं अब कल्पना कर रहा हूं कि जब नीम करोली बाबा जीवित थे तो यह  स्थान कैसा था। आज भी इस स्थान पर उसी अध्यात्मिकता का अनुभव किया जा सकता है। तो फिर क्या होता? क्या वह वास्तव में भगवान हनुमान का अवतार थे?

कैंची धाम में मेरा अपना अन्वेषण

मुझे स्पष्ट रूप से दिसंबर 2019 का वो दिन दिन याद है, जब कड़ाके की सर्दी में एक दिन अच्छी धूप खिली थी और मैं अपने हॉस्टल से इस स्थान की ओर अग्रसर था। और जैसे ही मैंने अपनी टैक्सी की खिड़की से मंदिर के नारंगी रंग के गुंबदों को देखा तो मानो मेरी रगों में एक अनोखी सी भावना का संचार होना प्रारंभ हो गया था। मानो मेरे मस्तिष्क के भावनात्मक पक्ष ने मुझे स्तब्ध कर दिया हो।

टैक्सी के रुकते ही मैंने दरवाजा खोला और मंदिर परिसर की ओर उत्सुकता से बढ़ने लगा। मैं बीच सड़क पर था। कोसी नदी बगल में बह रही थी और नदी के दूसरी तरफ  था कैंची धाम।

इसके अलावा, मैं मुख्य प्रवेश के समक्ष खड़ा था जो कुछ इस तरह दिखता है।

मुझे नहीं पता कि यह सबके लिए सच है लेकिन धार्मिक स्थानों पर कुछ तो शांतिपूर्ण सा एहसास होता है। और अब जब मैं खुद वहाँ खड़ा था – मुझे भी कुछ अलग नहीं लग रहा था। थोड़ी भीड़भाड़ थी, लेकिन मुझे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे मैं पंख के सहारे उड़ रहा हूं।

मैंने मंदिर में प्रवेश किया और अपने तीखे नज़रों के साथ हर चीजों का विश्लेषण करना आरंभ कर दिया। 

यहाँ मुझे क्या पता चला –

● मंदिर परिसर में 3-4 मंदिर हैं जिनमें वैष्णो देवी, भगवान हनुमान, नीम करोली बाबा आदि शामिल हैं।

● मंदिर के अंदर नीम करोली बाबा की एक विशाल और सुंदर मूर्ति है।

● फ़ोटोग्राफ़ी को अंदर प्रतिबंधित किया गया है।

● यहां समय बिताने लायक है, शायद पूर्वव्यापीकरण।

● आपको उबली दाल ‘ प्रसाद ‘ के रूप में मिलती है। 

कैंची धाम तक कैसे पहुँचे और कहां रहें?

कैंची धाम या नीम करोली बाबा के निवास स्थान पहुंचना बहुत कठिन नहीं है। आप सीधे सड़क के माध्यम से पहुंच सकते हैं। इसके साथ रेल या वायुमार्ग के माध्यम से भी आ सकते हैं।

चूँकि मैं लखनऊ में रहता हूँ, जो यहाँ से सिर्फ 400 किलोमीटर दूर है, मैंने लखनऊ से हल्द्वानी स्टेशन के लिए सीधी ट्रेन ली और फिर यहां पहुँचने के लिए उत्तराखंड परिवहन निगम की बस का इस्तेमाल किया।

तो, यहाँ एक महत्वपूर्ण बात ध्यान दें – हल्द्वानी बस स्टॉप से ​​अल्मोड़ा के लिए जाने वाली सभी बसें कांची धाम से होकर जाती हैं क्योंकि यह उसी मार्ग पर स्थित है।

यहाँ तकनीकी विवरण संलग्न हैं:

नजदीकी एयरपोर्ट- पंतनगर (71 किमी)

निकटतम रेलवे स्टेशन – काठगोदाम (37 किमी) और हल्द्वानी (42 किमी)

सबसे पास रहने के लिए: एयर बीएनबी सम्पूर्णानंद स्टे (केँची धाम मंदिर से 2 मिनट की पैदल दूरी पर) स्थित है।

स्वयं कैंची धाम आश्रम में रहने का विकल्प है। उसके लिए आपको मंदिर के प्रबंधक से संपर्क करना होगा। भक्त अधिकतम 3 दिन ही रह सकते हैं। यदि आप अधिक दिनों तक रहना चाहते हैं, तो इसके लिए या तो एयरबीएनबी का उपयोग करें या आसपास एक अच्छा होटल खोजें।

यदि आप एक एकल यात्री हैं या कम बजट पर हैं, तो काठगोदाम के ऊपर हल्द्वानी स्टेशन को प्राथमिकता दें क्योंकि बस स्टॉप, स्टेशन से सिर्फ 5 मिनट की दूरी पर है और आपको मुश्किल टैक्सी ड्राइवरों का शिकार नहीं होना पड़ेगा।

कुछ संबंधित और महत्वपूर्ण सवाल

नीम करोली बाबा की मृत्यु कैसे हुई?

11 सितंबर 1973 को वृंदावन, भारत में लगभग 1:15 बजे एक मधुमेह कोमा से उनकी मृत्यु हो गई।

क्या स्टीव जॉब्स नीम करोली बाबा से मिले थे?

नहीं। स्टीव को निराशा हुई कि महाराज जी का पिछले साल सितंबर में निधन हो गया।

मैं कैसे कैंची धाम पहुँच सकता हूँ?

यह नैनीताल-अल्मोड़ा राजमार्ग पर स्थित है। अल्मोड़ा जाने वाली सभी बसें कैंची से होकर गुजरती हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन 37 किमी पर काठगोदाम है और निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर 71 किमी पर है। वहां से अल्मोड़ा जाने वाली किसी भी बस को पकड़ सकते हैं।

क्या मैं कैंची में नीम करोली बाबा आश्रम में रह सकता हूँ?

हां, आप अधिकतम 3 दिनों तक रह सकते हैं। बस आश्रम की आधिकारिक वेबसाइट पर प्रबंधक से संपर्क करें।

क्यों प्रसिद्ध है नीम करोली बाबा?

यह दावा किया जाता है कि जब वह 17 साल के थे तो उन्हें भगवान हनुमान के दर्शन हुए थे। वह भगवान राम के बहुत बड़े भक्त भी थे। लोगों का मानना ​​था कि वह हिंदू भगवान भगवान हनुमान के पुनर्जन्म थे।

निष्कर्ष – मैंने क्या सीखा?

स्टीव जॉब्स, कैंची धाम जाने के लिए मेरे लिए महत्वपूर्ण कारणों में से एक थे। मैंने अपने अल्मोड़ा यात्रा के साथ इस यात्रा की योजना बनाई। तो, यहाँ आने के बाद मैंने क्या सीखा?

निश्चित रूप से, यह मंदिर अपनी तरह का है – एक नदी के किनारे पर स्थित है, जो सुंदर पहाड़ों से घिरा हुआ है और वातावरण में एक शांति है।

मुझे नहीं पता कि इस मंदिर से मेरे जीवन में क्या अच्छा आशीर्वाद मिलेगा – चाहे मैं अपने व्यवसाय और जीवन में अधिक सफल हो पाऊंगा या नहीं। लेकिन मुझे यह पता है – इस मंदिर का दौरा निश्चित रूप से मेरे जीवन में किए गए सबसे अच्छे कामों में से एक था।

अभी के लिए इतना ही। मुझे उम्मीद है कि यह आपकी नीम करोली बाबा मंदिर की यात्रा में आपकी मदद करेगा। लेकिन अगर आप पहले ही यहां आ चुके हैं तो आपके लिए सबसे अच्छा हिस्सा क्या था? नीचे कमेंट बॉक्स में अपना अनुभव जरूर शेयर करें।


Share this information with your friends:
Default image
मिसफिट वांडरर्स

मिसफिट वांडरर्स एक यात्रा पोर्टल है जो आपको किसी स्थान को उसके वास्तविक रूप में यात्रा करने में मदद करता है। मनोरम कहानियां, अजीब तथ्य, छिपे हुए रत्न, अनछुए रास्ते, आकर्षक इतिहास, और बहुत कुछ - यात्रियों द्वारा, यात्रियों के लिए।

Articles: 33

2 Comments

अपनी टिप्पणी या सुझाव दें