पारिजात – स्वर्ग से उतरा एक वृक्ष

भारतवर्ष में प्राचीन काल से ही वृक्षों की पूजा अर्चना होती चली आ रही हैं, फिर चाहे वो पीपल का पेड़ हो या बरगद का। पूजन – हवन में भी पेड़ो के पत्तों और लकड़ियों का प्रयोग किया जाता है। आम के पल्लव – लकड़ियों से लेकर केले के पत्तों तक। हमारे देश में बहुत से कल्पवृक्ष है जिनका बड़ा धार्मिक महत्व है।

ऐसा ही एक अद्भुत वृक्ष, उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के छोटे से कस्बे किंतूर में है। पारिजात के नाम से विख्यात इस वृक्ष के बारे में स्थानीय लोगो की मान्यता है कि यह भारत में ही नहीं अपितु विश्व में  अपने तरह का इकलौता पेड़ है। 

और हाँ यदि आपके पास पर्याप्त मात्रा में समय नहीं है तो आप ये विडीओ देख के भी काम बना सकते है 🙂

चूंकि मैं स्वयं बाराबंकी से हूं, मेरे मन में भी इसके दर्शन की इच्छा काफी समय से थी। मैंने भी लोगों के मुख से बहुत सी प्रचलित कहानियां सुनी थी। एक दिन अचानक मिसफिट वांडरर्स के बंजारे  निकल पड़े इस अद्भुत वृक्ष के दर्शन पाने के लिए।

पारिजात वृक्ष की भौगोलिक स्थिति

जब मैंने इस वृक्ष को देखा तो बहुत अचंभित हुआ। यह सचमुच अद्भुत, अद्वितीय है। यह एक रहस्यमई पेड़ प्रतीत हो रहा था।

इसकी तने की चौड़ाई लगभग 50 फीट और लंबाई 45 फीट के आसपास  होगी। वैज्ञानिक आज तक इस वृक्ष की आयु ज्ञात नहीं कर सके है। स्थानीय लोग तो इसकी आयु 1000-5000 वर्ष तक बताते हैं।

पारिजात की प्रचलित प्रौराणिक मान्यताएं

इस वृक्ष के साथ बहुत सी धार्मिक मान्यताएं प्रचलित है। सारी मान्यताएं महाभारत काल से जुड़ी हुई है। माता कुंती के नाम पर ही इस स्थान का नाम किंतूर पड़ा। सभी मान्यताओं का वर्णन विस्तारपूर्वक कर रहा हूं।

धनुर्धर अर्जुन द्वारा लाया जाना

कहा जाता है कि जब धृतराष्ट्र ने पांडवो को अज्ञातवास दिया तो पांडवो के साथ माता कुंती भ्रमण करते करते यहां के वनों में पहुंची और यहीं पर निवास किया था। पास में भी भगवान शिव का एक मंदिर स्थापित किया जिसको कुंतेश्वर महादेव का नाम दिया। उन्होंने भगवान शिव को अर्पित करने के लिए स्वर्ग से पारिजात पुष्प लाने की इच्छा जताई।

अर्जुन ने बिना विलंब किए माता की इच्छा को ध्यान में रखते हुए स्वर्गलोक गए। वहां से पूरा वृक्ष ही ले आए और मंदिर के समीप स्थापित कर दिया ताकि माता को पूजा अर्चना करने में तनिक भी कष्ट ना हो।

भगवान श्रीकृष्ण द्वारा स्थापित

एक मान्यता ये भी है कि एक बार श्रीकृष्ण अपने पत्नी रुक्मणि जी के साथ पूजन समारोह में शामिल होने हेतु रैवतक पर्वत पर गए। 

वहां महर्षि नारद जी ने पारिजात का पुष्प को श्रीकृष्ण को भेंट किया, जिसको कृष्ण जी ने रुक्मणि जी को दिया। रुक्मणि जी ने पुष्प से  अपने बालों को अलंकृत कर लिया। 

यह बात दासियों द्वारा सत्यभामा जी तक पहुंची जो भी श्रीकृष्ण की धर्मपत्नी थीं। जब भगवान द्वारका स्थित सत्यभामा जी के महल में पहुंचे तो सत्यभामा जी ने उनसे पारिजात वृक्ष लाने का हठ पकड़ लिया। बहुत मनाने पर भी वह नहीं मानी। फिर श्रीकृष्ण ने अपना एक दूत स्वर्गलोक भेजा। देवराज इंद्र ने दूत को वृक्ष देने से इंकार कर दिया। 

फ़िर भगवान श्रीकृष्ण स्वयं ही स्वर्गलोक गए जहां उन्हें वृक्ष लाने के लिए देवराज इंद्र से युद्ध करना पड़ा। जब भगवान श्रीकृष्ण इंद्रदेव को पराजित करने के बाद जाने लगे तो इंद्र ने क्रोध में आकर वृक्ष पर कभी फल ना आने का श्राप दिया। इसी वजह से इसपर फूल तो आते हैं पर फल एक भी नहीं।

भगवान श्रीकृष्ण ने वृक्ष को इस तरह से स्थापित किया कि, वो था तो सत्यभामा जी के द्वार पर, लेकिन उसका पुष्प पास ही स्थित रुक्मणि जी के द्वार पर गिरता था। इसीलिए स्थानीय लोगों का मानना है कि आज भी जब इसके फूल झड़ते है तो वृक्ष से कुछ दूरी पर जा कर गिरते है। 

कुछ लोगों का यह भी कहना है कि बाद  में श्रीकृष्ण ने अर्जुन को सत्यभामा जी के महल से पारिजात वृक्ष लाने का आदेश दिया ताकि माता कुन्ती उसके फूलों का प्रयोग पूजन हेतु कर सके। तब अर्जुन ने वृक्ष को द्वारका से लाकर यहां स्थापित किया।

समुद्रमंथन से उत्पत्ति

हरिवंश पुराण में इसको कल्पवृक्ष कहा गया है। मान्यता है कि इसकी उत्पत्ति  समुद्रमंथन से हुई। फिर देवराज इन्द्र इसको अपने साथ स्वर्गलोक ले गए।

स्वर्गलोक में इसको स्पर्श करने का अधिकार सिर्फ़ उर्वशी नाम की अप्सरा को था। इस वृक्ष के स्पर्श मात्र से ही उर्वशी कि सारी थकान मिट जाती थी। लोगों का कहना है कि  आज भी इसकी छाया में बैठने से सारी थकावट दूर हो जाती है।

एक अन्य मान्यता

एक कहानी यह भी है कि पारिजात नाम की एक सुंदरी हुआ करती थी, जिसको सूर्यदेव से प्रेम हो गया। बहुत कोशिश करने के बाद भी सूर्यदेव ने उसके प्रेम को स्वीकार नहीं किया। इस बात से खिन्न होकर उसने आत्महत्या कर ली। जिस स्थान पर उसकी कब्र बनी, उसी स्थान पर पारिजात का जन्म हुआ।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण

इस तरह के वृक्ष अफ्रीका प्रदेश में आमतौर पर पाए जाते है। इसको अफ्रीका में “बाओब” बोला जाता है। पारिजात वृक्ष, बाओब की जिस प्रजाति के समान दिखता है उसका नाम “अदांसोनिया दिजिताता” है। 16वीं शताब्दी में जब दिल्ली पर अलाउद्दीन ख़िलजी का शासन था, उस समय अफ्रीका के मोरक्को से एक नवयुवक विश्व भ्रमण पर निकला, जिसका नाम  “इबन बतुता” था। वैज्ञानिकों का मानना है कि जब वो भारत आया तो अपने साथ इसको लाया और यहां स्थापित कर दिया। 

पारिजात पुष्प का महत्व

शास्त्रों के अनुसार इसके पुष्पों ( फूलों ) का विशिष्ट महत्व है। पारिजात के पुष्पों का प्रयोग  मुख्यतः शिवपूजन और लक्ष्मी पूजन में किया जाता है। अब इसमें काम मात्रा में फूल खिलते है। पुष्पित होते समय इसके फूल सफ़ेद रंग के होते है को शाम होते होते सुनहरे रंग में परिवर्तित हो जाते है।

हमारा अनुभव

हम चूंकि अगस्त के महीने में गए थे, तो हमें इसके फूलों के दर्शन हुए। इसके परिसर के बाहर कुछ फल फूल, प्रसाद की दुकानें है। जैसे ही हमने अंदर प्रवेश किया तो देखा कि वहां लोकगीत का मंचन हो रहा था। कुछ देर मंचन देखने के बाद हमने वृक्ष के दर्शन किए। यहां चारो ओर हरियाली आपका मन मोह लेगी। 

पहले यह वृक्ष का स्पर्श आसानी से किया जा सकता था लेकिन लोगों के द्वारा  वहां निरंतर जल और दूध अर्पण करने से उसके तने को नुकसान हो रहा था। फिर स्थानीय प्रशाशन ने उसके चारो ओर घेरा लगा दिया। अब लोग दूर से ही अपनी पूजा अर्चना करते हैं।

कुछ प्रमुख तथ्य

  • इसके बीज़ नहीं होते, कई लोगों ने इसकी कलम का प्रयोग करके दूसरा उगाने का प्रयास किया, पर असफल रहे।
  • इस वृक्ष पर भारत सरकार ने डाक टिकट भी जारी किया है।
  • यह एक संरक्षित वृक्ष है।
  • इसके फूल अगस्त के महीने में पुष्पित होते है।
  • यहां आपकी सारी मनोकमनाएं पूरी हो जाती है।
  • समय समय पर यहां मेलों का आयोजन किया जाता है।

कैसे पहुंचे

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से किंतूर की दूरी 67 किमी और अयोध्या से लगभग 100 किमी  है। यहां पहुंचने का सबसे आसान और सुगम तरीका सड़क मार्ग के द्वारा है। लोकल ट्रेन भी चलती है, लेकिन उसमें आपको थोड़ा कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। 

परिजात पहुचने के लिए अगर आपको हमारी सहायता की आवश्यकता है तो बेझिझक हमसे सम्पर्क करें या अपने सवाल कॉमेंट बॉक्स में लिखें, हम शीघ्र ही उसका उत्तर देंगे।

Abhishek Singh
Abhishek Singh

मैं अभिषेक सिंह नवाबों के शहर लखनऊ से हूं। मैं एक कंटेंट राइटर के साथ-साथ डिजिटल मार्केटर भी हूं | मुझे खाना उतना ही पसंद है जितना मुझे यात्रा करना पसंद है। वर्तमान में, मैं अपने देश, भारत की विविध संस्कृति और विरासत की खोज कर रहा हूं। अपने खाली समय में, मैं नेटफ्लिक्स देखता हूं, किताबें पढ़ता हूं, कविताएं लिखता हूं, और खाना बनाता हूँ। मैं अपने यात्रा ब्लॉग मिसफिट वांडरर्स में अपने अनुभवों और सीखों को साझा करता हूं।

5 Comments

अपनी टिप्पणी या सुझाव दें