दुनिया के एक अजूबे ताजमहल की आभासी यात्रा

ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में गिना जाता हैं, और अधिकांश आगंतुकों की आंखों का तारा है। और होना भी क्यों नहीं चाहिए? राजस्थानी मकराना मार्बल का उपयोग कर निर्मित, यह अपनी भव्यता और सुंदरता से दुनिया की वास्तुकला को परिभाषित करता है। संगमरमर का पारभासी प्रकृति रोशनी को इसके माध्यम से पारित करने की अनुमति देती है, हालांकि बहुत ही महत्वहीन अनुपात में ऐसा होता है। यह ताजमहल को चमकदार बनाता है और इसलिए यह चांदनी रात में चमकता है।

ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में गिना जाता हैं और यह निश्चय ही अधिकांश आगंतुकों की आंखों का तारा है। और होना भी क्यों नहीं चाहिए? राजस्थानी मकराना मार्बल से निर्मित, यह वास्तुकला अपनी भव्यता और सुंदरता से दुनिया को अपनी ओर आकर्षित करता है। संगमरमर का पारभासी प्रकृति रोशनी को इसके माध्यम से पारित करने की अनुमति देता है। हालांकि ऐसा बहुत ही महत्वहीन अनुपात में होता है। यह ताजमहल को चमकदार बनाता है। यही कारण है कि ताज़ चांदनी रात में अपनी चमक बिखेरता है।

COVID-19 ने हमें कई क्षेत्रों में नष्ट कर दिया है। ऐसी स्थिति में यात्रा बिलकुल संभव नहीं है। अतः आज मैं आपको ताजमहल की यात्रा पर ले जा रहा हूं। उम्मीद करता हूं आप अवश्य आनंदित हों। तो अपनी कमर कस लीजिए और ताज की सुंदरता के साथ खुद को मनोरंजित करने के लिए तैयार रहिए।

यह आभासी दौरा जयपुर के हवा महल जैसा ही है। लेकिन अगर आपने वस्तुतः वह आभासी यात्रा नहीं किया  हैं, तो मैं आपको कुछ बुनियादी बातें दोहराता हूँ।



वीडियो टूर यहाँ देखें

बातें ध्यान देने योग्य

ताजमहल के इस आभासी दौरे पर आगे बढ़ने से पहले आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

  • भारत में सर्दी खत्म होने वाली है और फरवरी का महीना है।
  • आसमान नीला होने के साथ तेज धूप है।
  • विश्व विरासत ताजमहल आगरा शहर में स्थित है।
  • आप मेरे साथ हैं और हम आज दुनिया के सात अजूबों में से एक का भ्रमण करने जा रहे हैं।

इस वर्चुअल टूर से आपकी उम्मीदें

यह वह यात्रा नहीं हो सकता है जैसा आप उम्मीद करते हैं, लेकिन यह वह यात्रा हो सकता है जो आपको फिर से जीवंत कर देगा। आप ताज पहले गए हैं या नहीं, मुझे ज्ञात नहीं। पर मैं इस आभासी दौरे को यथासंभव रोचक और मजेदार बनाने का प्रयास करूंगा। सोचिए कि:

  • आप और मैं दोस्त हैं (अरे, दोस्त!)।
  • यहाँ दिखाया जा रहा सब कुछ कालानुक्रमिक क्रम में है।
  • चूंकि यह आभासी है, आप छवियों पर पढ़ने से ज्यादा ध्यान केंद्रित करें।

चलने के लिए तैयार? चलिए चलते हैं।

ताजमहल पहुँचना

अच्छे यात्री होने के नाते, हमने अपना होमवर्क किया है। आगरा में उबर की सवारी के माध्यम से हम ताजमहल के पश्चिम गेट तक पहुंचने में कामयाब रहे। जैसे ही कैब ने हमें गेट के बाहर उतारा, आप चौक गए क्योंकि गेट से कोई ताजमहल दिखाई नहीं दे रहा था। लेकिन मेरे मित्र चूंकि मैं कई बार आगरा गया हूं, आगे से मैं आपका मार्गदर्शक बनता हूं।

“यहाँ, इस तरफ से आइए।” मैं अंदर जाने वाले फुटपाथ पर चलने लगा। मैंने आपको बताया कि ताजमहल का मुख्य द्वार यहाँ से लगभग 100-200 मीटर की दूरी पर है। तब जाकर आपने संतुष्टि भरी लंबी सांस ली।

हम कुछ कैडी (गेट से तक महल तक पहुंचाने के लिए वाहन) को सड़क से आते जाते हुए देखते हैं लेकिन हमने पैदल चलना पसंद किया। जल्द ही हम टिकट खिड़की पर पहुँच गए और सुरक्षा जाँच पार कर लिया और अंत में ताजमहल के परिसर में प्रवेश किया।

जैसे-जैसे हम चल रहे है, आपने हमें दोनों तरफ निर्मित वास्तुशिल्प देखने के लिए इशारा किया। यह वाला:

मोहक आकृति

इसके बाद, ताजमहल का मुख्य प्रवेश द्वार दिखाई देने लगा। इसको क्या कहा जाता है? थोड़ा ठहरिए जनाब, हम इसके बारे में इंटरनेट पर पढ़ते हैं, क्या आपको याद है? इसे ग्रेट गेट या दरवाजा-ए-रौज़ा के नाम से जाना जाता है और यहाँ से यह ऐसा दिखता है। बहुत लंबा और अत्यंत सुंदर।

कुछ दूरी से प्रवेश द्वार

“आह, वहाँ”, आपने इशारा किया जैसे ही आपने गेट की दीवारों के पीछे सफेद गुंबद देखा। उत्साह शीर्ष स्तर पर है और गेट पार करने के बाद हम अंदर जाने के लिए और इंतजार नहीं कर सकते।

गेट! यह वास्तव में आज की दुनिया के बाकि द्वारों की तुलना में बहुत बड़ा है और निर्विवाद रूप से सुंदर है। हमने उर्दू में शिलालेख देखे और सोचा कि यह क्या है? तभी किसी ने बताया की नमाज़ में अदा की जाने वाली पंक्तियाँ अंकित हैं।

पास से मुख्य द्वार


हमने गेट पार किया। भीड़ के बीच अपना रास्ता बनाते हुए आगे अग्रसर हुए और सामने का नज़ारा देखकर हम दोनों निशब्द हो गए। यह ऐसा है जैसे ‘वास्तविकता’ बनाम ‘अपेक्षाएं’ का मजाक सोशल मीडिया पर होता है। इतनी ज्यादा भीड़। हमारा माथा ठनका। देखिए:

कुछ दूरी से ताजमहल

लेकिन वैसे भी हमारी सारी निराशाएं उस पल में खुशी में बदल गईं, जब हमने अपनी गर्दन को उठाया और अपनी लालच भरी आंखों से ताज़ का पूरा, वाइड नजारा देखा। मैं आपको शब्दों में नहीं बता सकता की मैंने कैसा महसूस किया। आपको इसे स्वयं देखना चाहिए।

मैं अपने आप को मना नहीं कर सकता और मुझे कुछ अच्छे फोटो खींचने की इच्छा जागृत हुई। मैंने जल्दी से अपना कैनन ईओएस 200 डी सेट करने लगा। यह कैमरा और मेरा iPhone मेरे रचनात्मक संतृप्ति को हमेशा शांत करता है।

इन झलकियों को देखिए जो मैंने ली, जब हम ताजमहल की ओर चल रहे थे।

 ताजमहल का नज़ारा
ताज का मनमोहक दृश्य

हमने देखा कि कुछ लोग ताजमहल की चोटी अर्थात् शीर्ष स्थान को पकड़ने जैसा प्रतीत होने वाले फोटो खिंचवा रहे हैं। हम वहां से आगे बढ़े और थोड़ा करीब पहुंचे। क्या यह दृश्य हमेशा हमारे साथ नहीं हो सकता?

मैंने कहा, बाएं की ओर अग्रसर हो जाइए अब हम मंडप की तरफ चलेंगे। “मंडप?” आपने पूछा। मैंने बताया कि जो दो समान संरचनाएं हम ताजमहल के दोनों किनारों पर देख रहे हैं, उनमें से एक मस्जिद है और दूसरा अतिथि मंडप है। उन आकर्षक इंस्टाग्राम फोटो को याद कीजिए? जिन्हें यहां से खींचा गया था। 

ताज के पास स्थित मस्जिद

चूँकि सूर्य इस पक्ष को अस्त हो रहा है, अतः हमें ताज के सफेद पत्थर पीले रंग में नजर आ रहे हैं। और यह अभी भी बहुत सुंदर लग रहा है। देखिए:

परिसर  से ताजमहल

हम अनुशासित बच्चों की तरह आगे बढ़े लेकिन कतार लंबी थी और ताजमहल को और करीब से देखने का उत्साह चरम पर था। जल्दी से, हम बहुत ऊपर (करीब) पहुँच गए और अब हम इसका मुख्य गुंबद भी देखने में सक्षम नहीं हैं। हम इसके इतने करीब हैं इसे देखिए:

मुख्य मकबरे से गुम्बद

अगला काम अतिथि मंडप, मस्जिद और यमुना नदी के सुंदर दृश्यों को 360 डिग्री कोण में ऐसा दिखाना था कि आप सभी चीजों का अवलोकन कर सके। वास्तुकला का यह एक अद्भुत नजारा है, मानों जैसे कि यह जीवंत है। वहीं चमक जो इसके निर्माण के वक़्त था, वो वैसे ही बरकरार है। सूर्य अस्त हो रहा था। आप इन चित्रों से इसकी खूबसूरती समझ सकते हैं:

सूर्यास्त
सूर्यास्त के वक़्त ताज

एक घंटे से अधिक समय बिताने के बाद, आपने एक अच्छे पोज के साथ तस्वीरें लेने के लिए कहा। इसलिए हम ताजमहल के सामने बगीचे के परिसर तक पहुंचने के लिए ताजमहल से नीचे उतरना शुरू करते हैं। “यह एक आदर्श स्थान है”, आपने कहा। आपने मेरी भी कुछ यादगार तस्वीरें खींची। यह देखिए:

 बगीचे से नज़ारा

कुछ अच्छी तस्वीरें खींचने के पश्चात् हम अब यह देखने के लिए आतुर हैं कि ताजमहल के पूर्वी द्वार के बाहर क्या है।

हम ताजमहल परिसर से बाहर निकले और देखा कि बाहर कुछ दुकानें और एक भगवान शिव मंदिर है। यहां से हम ताज़महल की याद के तौर पर कुछ स्मृति चिन्ह ले सकते है। पर हम आगे बढ़े।

बाहर स्थति दुकानें
पूर्वी द्वार पर स्थति शिव मंदिर

समापन

इस तरह हमने अपनी यात्रा का समापन किया। क्या आपको मेरे साथ ताजमहल देखने के आनंद की अनुभूति हुई? शायद आपने हां बोला। रुकिए रुकिए, कृपया अपने भाव टिप्पणी बॉक्स में व्यक्त कर दीजिए।

मुझे आशा है कि आप इस भयावह महामारी के बीच इन आभासी पर्यटन का आनंद ले रहे हैं। यदि हां, तो कृपया अपने दोस्तों के साथ साझा करें। इसके अलावा, यदि आप हवा महल के हमारे आभासी दौरे पर नहीं गए हैं, तो आप यहाँ पर क्लिक कर सकते हैं।

जल्द ही मिलते हैं, दोस्त।

तब तक घर पर रहिए, सुरक्षित रहिए।


One comment

अपनी टिप्पणी या सुझाव दें